Not known Factual Statements About Goal Setting


बैठे दीपू लई इन्ना सोणा रिश्ता आया ए..। मैं ते कैनी आं भरा जी, तुसी इक अध दिन इच दीपे नूं वी कुड़ी विखाण दा इंतजाम

इस दोहरे पाप का भागी नहीं बन सकता मेरी बेबे। मैं एक बार फिर से बिना बताये घर छोड़ कर जा रहा हूं। आगे मेरी किस्मत। और मैं एक बार फिर खाली हाथ घर छोड़ कर चल दिया हूं। इस बार मेरी आंखों में आंसू हैं तो सिर्फ गुड्डी के लिए... वो अपनी

पिताजी से धन, घर, जमीन कुछ भी नहीं मिला। हां! अमूल्य धन शिक्षा थोड़ा बहुत जो कुछ भी मिली यह पूज्य पिताजी की ही देन है और इससे हर प्रकार से संतोष है। तहसील गंगानगर और गांव लालगढ़ में घर और जमीन है।

पैसेंया दा। मुझे खराब लगा है। एक तरफ तो वे मान रहे हैं कि उनके लिए ये मेरी पहली कमाई है और दूसरी तरफ उसकी तरफ ऐसी बेरुखी।

तुझे लड़की दिखानी है ताकि तू ये न कहे, देखने-भालने का मौका ही नहीं दिया। वैसे उनका घर-बार हमारा देखा भाला है..। पिछली

भी दोबारा चोरों की तरह घर से भागते वक्त बहुत खराब लग रहा था, लेकिन मैं क्या करता। जब मैंने पहली बार छोड़ा था तो चौदह

न होने पर भी दो-एक रोटी ज्यादा ही get more info खा get more info लेता हूं। पता नहीं फिर कब बेबे के हाथ की रोटी नसीब हो। उठते समय बेबे के घुटने को

दरवाजे से उसे जाता देख रहा हूं .. एक बहादुर लड़की की चाल से वह चली जा रही है। उसे जाता देख रहा हूं, और बुदबुदाता हूं

.. मेरे पास हैं ना.. - तू चुप चाप अपने लिए जो भी पसंद करना है कर, ज्यादा बातें मत बना।

हम तीनों खूब हंसे थे। अलका ने न केवल मुझे भाई बना लिया है बल्कि भाई दूज का टीका भी किया। और इस तरह मैं उनके भी

मिल जायेंगे। जब से दीपू आया है, अच्छे अच्छे घरों के read more कई रिश्ते आ चुके हैं। मैं ही चुप थी कि बच्चा कई सालां बाद आया है,

होर की हो सकदी है। - ये मैं क्या सुन रहा हूं। ये कुड़ी दिखाने का क्या चक्कर है भई। बेबे या दारजी इस समय सातवें आसमान पर हैं,

Not pretty. If you think it would assistance, you'll be able to explain to your pals regarding your goals and update them each and every From time to time, but your goal is YOUR duty. Focus on motivating yourself and trying to keep yourself on course instead of determined by your mates to do this in your case. Decide on One more reply!

पर मारूंगा। बता जरा...? - गुड्डी की जिम्मेवारी मेरी। अभी वो पढ़ना चाहती है। - तो उसने आते ही तेरे कान भर दिये हैं। कोई ज़रूरत नहीं है उसे आगे पढ़ाने की। ठीक है संभाल लेना उसकी जिम्मेवारी। आखिर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *